Friday, February 3, 2012

...मेरे हर क्षण के सार रहे!




जीवन जब भीषण आंधी था,
तुम प्यार की बन बयार बहे,
था धुत नशा, पग डगमग जब,
संबल-से पथ पर हर बार रहे.

रौंदे मेड़ों की जब किनार
धारा जीवन की बिखरी थी,
तुम ही सबल, संवर्धक-से
जुड़ते तिनकों के तार रहे.

तम था इतना, तुम क्या दिखते!
नयना भी मेरे क्या करते !
फिर भी कितनी उत्कंठा से,
मेरे हर क्षण के सार रहे!

था छोड़ चला इक सृष्टि मैं,
जब नवजीवन के स्वागत में,
उस पार प्रिये तुम ही तुम थे,
तुम ही हो जो इस पार रहे!



46 comments:

  1. बेहद सुंदर, पावन कामना है , ऐसा ही हो ,
    सकारात्मक विचार लिए पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  2. जो जीवन सार बन कर रहा , उससे बढ़कर कौन ...

    ReplyDelete
  3. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!
    बिल्‍कुल सही कहा है ..आपने इन पंक्तियों में ..आभार

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर भाव्।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर...
    प्यार में ही तो है जीवन का सार..

    ReplyDelete
  6. //तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!

    waah...
    bahut sundar..

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत ही अनुपम भाव लिये ..

    ReplyDelete
  8. बहुत खूबसूरत भाव संजोये हैं ..

    ReplyDelete
  9. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!

    बहुत खूब सर!

    सादर

    ReplyDelete
  10. रौंदे मेड़ों की जब किनार
    धारा जीवन की बिखरी थी,
    तुम ही सबल, संवर्धक-से
    जुड़ते तिनकों के तार रहे.

    सकारात्मक विचार की सुंदर कविता ....
    शब्दों पर पकड़ अच्छी है आपकी ....

    ReplyDelete
  11. अगर 'क्षणिकाएं' लिखते हों तो भेज सकते हैं 'सरस्वती-सुमन' पत्रिका के लिए ...
    जिसके अतिथि संपादन का कार्य भार इन दिनों मुझ पर है ....
    संक्षिप्त परिचय और चित्र के साथ ....

    ReplyDelete
  12. बेहद सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  13. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!
    आत्म - विश्वास और हौसला दिखलाती रचना.... :) शुभकामनायें.... :)

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरत भाव......

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर लिखा है ..अच्छी लगी..

    ReplyDelete
  16. रौंदे मेड़ों की जब किनार
    धारा जीवन की बिखरी थी,
    तुम ही सबल, संवर्धक-से
    जुड़ते तिनकों के तार रहे.

    सुंदर शब्दों में कृतज्ञता अभिव्यक्त हुई है इस रचना में।

    ReplyDelete
  17. हूँ छोड़ चला इक सृष्टि मैं,
    इक नवजीवन के स्वागत में,
    उस पार प्रिये तुम ही तुम थे,
    तुम ही हो जो इस पार रहे!

    बहुत सुंदर प्यार भरी प्रस्तुति. मेरे ब्लॉग से संलग्न होने के लिये शुक्रिया.

    ReplyDelete
  18. आप के शब्द चयन बहुत ही सुन्दर और साहित्यिक हैं..
    रौंदे मेड़ों की जब किनार
    धारा जीवन की बिखरी थी,
    तुम ही सबल, संवर्धक-से
    जुड़ते तिनकों के तार रहे.

    हृदयस्पर्शी कविता के लिए बधाइयाँ स्वीकार करें

    ReplyDelete
  19. हूँ छोड़ चला इक सृष्टि मैं,
    इक नवजीवन के स्वागत में,
    उस पार प्रिये तुम ही तुम थे,
    तुम ही हो जो इस पार रहे!very nice.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  21. Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  23. आभारी हूँ आपकी मेरे ब्लॉग पर आकर समर्थन हेतु|

    ReplyDelete
  24. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!

    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  25. हूँ छोड़ चला इक सृष्टि मैं,
    इक नवजीवन के स्वागत में,
    उस पार प्रिये तुम ही तुम थे,
    तुम ही हो जो इस पार रहे!
    Bahut Khoob.

    ReplyDelete
  26. बहुत ही सुन्दर पोस्ट.....हिंदी बड़ी अच्छी है आपकी |

    ReplyDelete
  27. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!
    deep and touching thought
    nice lines

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन रचना. आभार.

    ReplyDelete
  29. Beautiful writing...Felt as if lived a part of hindi literature...

    Keep penning more...:)

    ReplyDelete
  30. तम था इतना, तुम क्या दिखते!
    नयना भी मेरी क्या करतीं!
    फिर भी कितनी उत्कंठा से,
    मेरे हर क्षण के सार रहे!
    bahut sunder bhav
    rachana

    ReplyDelete
  31. सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  32. हूँ छोड़ चला इक सृष्टि मैं,
    इक नवजीवन के स्वागत में,
    उस पार प्रिये तुम ही तुम थे,
    तुम ही हो जो इस पार रहे!....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  33. रौंदे मेड़ों की जब किनार
    धारा जीवन की बिखरी थी,
    तुम ही सबल, संवर्धक-से
    जुड़ते तिनकों के तार रहे....

    कुछ लोग होते हैं ऐसे जीवन में .. और उन्ही की संबल पे दुनिया जीती जाती है ...

    ReplyDelete
  34. बहुत ही सुन्दर भाव उतनी ही सुन्दर अभिव्यक्ति । 'इस पार प्रिये तुम हो मधु है उस पार न जाने क्या होगा' से अलग आपके लिये इस पार जो है वही उस पार भी है यह बात गीत को कुछ अलग बनाती है । हाँ "नयना भी मेरी क्या करती" ,अखर रहा है ।लिखने में ही भूल हुई है क्योंकि "नयना भी मेरे क्या करते"( जो होना चाहिये ) से सही तुक भी बनती है ।

    ReplyDelete
  35. प्रस्तुति अच्छी लगी । इस लिए अनुरोध है कि एक बार समय निकाल कर मेरे पोस्ट पर आने का कष्ट करें । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  36. http://urvija.parikalpnaa.com/2012/02/blog-post_08.html

    meri email id
    rasprabha@gmail.com

    ReplyDelete
  37. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति।
    सुंदर रचना।

    ReplyDelete





  38. बंधुवर मधुरेश जी
    सस्नेहाभिवादन !

    अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आ'कर …
    जीवन जब भीषण आंधी था
    तुम प्यार की बन बयार बहे
    था धुत नशा… पग डगमग जब
    संबल-से पथ पर हर बार रहे


    बहुत सुंदर रचना ! बधाई !

    हार्दिक शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर सार्थक और पावन प्रस्तुति.
    आभार.

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  41. वाह |||
    इस रचना के क्या कहने ??
    बहुत ही सुन्दर , बेमिसाल ,अनुपम भाव लिए प्यारी रचना है---******----

    ReplyDelete