Friday, February 17, 2012

तज तुच्छ विचार, जगो तुम मन




तज तुच्छ विचार, जगो तुम मन  
हो सोच समग्र, सार्थक जीवन.

प्रतीक्षा में देव-मंडली खड़ी,
हैं उन्हें तुमसे आशाएं बड़ी.
होकर निर्जीव धर्म-पथ पर
अगणित हैं आत्माएं पड़ी,
उनमें जीवन संचार करोगे
ठान लो बस अब ये तुम मन.
तज तुच्छ विचार, जगो तुम मन

पोंछना उनके अश्रुधार और
मुख पर उनके मुस्कान लाना,
थामकर वेदना, पीड़ाओं को,
एक मधुर बंसी तुम बजाना.
पीड़ा-दुःख से कातर ना होगे
दृढ-निश्चयी हो आगे बढ़ो मन
तज तुच्छ विचार, जगो तुम मन

परोपकार, सेवा, साधना में
स्वयं को समाहित रखो मन,
अनुराग-सिक्त अनाहात को
रिपु-पाशों से रहित रखो मन.
एक नव-नूतन धरा का
अब तो सृजन करो तुम मन
तज तुच्छ विचार, जगो तुम मन
हो सोच समग्र, सार्थक जीवन.

This is a 'Prabhaat Samgiita', originally written in Bengali by Shrii Prabhat Ranjan Sarkar. Being one of my most favorite and inspiring song, I have tried to write the same in Hindi.
Here is the song in Bengali:
Man_ke_kono_chhoto_kaje

And here is the original lyrics:
Man_ke_kono
Picture Courtesy: Priyadarshi Ranjan


========================================================
English translation:

In any low thought
I will not allow my mind to fall.
No, no, I won't do petty, selfish, small things.
I'll seat my mind in the effulgence of meditation,
I'll create a new world.
This world and the celestial realms
are waiting for me
in breathless expectation.
I'll fulfill their hopes.
I'll cause the stream of life to flow.
Removing tears, I'll bring smiles.
Crying will cease and flutes will play.
On this earth will descend auspicious days.
Sorrows and pains will torment me no more.
========================================================



Original in  Bangla:

MAN KE KONO CHOT́O KÁJEI,
NÁVTE DOBO NÁ
NÁ, NA, NA, NÁVTE DOBO NÁ

DHYÁNER ÁLOY BASIYE DOBO,
KARABO NOTUN DHARÁ RACANÁ
NÁ, NA, NA, NÁVTE DOBO NÁ

MAN KE KONO CHOT́O KÁJEI,
NÁVTE DOBO NÁ

BHULOK DYULOK ÁMÁRI ÁSHE,
CEYE ÁCHE RUDDHA ÁVESHE
TÁDER ÁSHÁ PÚRŃA KARE
BAHÁBO PRÁŃER JHARAŃÁ
NÁ, NA, NA, NÁVATE DOBO NÁ

MAN KE KONO CHOT́O KÁJEI
NÁVTE DOBO NÁ

ASHRU MUCHE ÁNÁBO HÁSI
KÁNNÁ SARE BÁJABE GO BÁNSHII
MÁT́IR PARE ÁSABE SUDIN
KLESH JÁTANÁ KÁRO ROVE NÁ
NÁ, NÁ, NÁ, NÁVTE DOBO NÁ

MAN KE KONO CHOT́O KÁJEI
NÁVTE DOBO NÁ

(By Shrii Prabhat Ranjan Sarkar)
=========================================================



22 comments:

  1. एक नव-नूतन धरा का
    अब तो तुम सृजन करो मन
    तुच्छ विचारों का अब त्याग करो मन.

    अनुवाद में भाव को बहुत अच्छे से पकड़ा है...अति सुंदर!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचना...
    अनुवाद के साथ सम्पूर्ण न्याय किया है आपने...

    बधाई..

    ReplyDelete
  3. पोंछना उनके अश्रुधार को,
    मुख पर उनके मुस्कान लाना,
    थामकर वेदना, पीड़ाओं को,
    एक मधुर बंसी तुम बजाना.
    पीड़ा-दुःख से कातर ना होगे
    दृढ-निश्चयी हो आगे बढ़ो मन
    तुच्छ विचारों का अब त्याग करो मन.
    अनुवाद में भी मौलिकता(जैसे तुम्हारी ही रचना हो)की झलक है.... !! आभार...... :)

    लग रहा है ,आज के हालातों के लिए सटीक रचना ,उस समय लिखी गई हो..... !!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छी सार्थक सन्देश देती रचना है...
    सार्थक प्रयास......:-)

    ReplyDelete
  5. सुंदर रचना ॥और सटीक अनुवाद ,,, आभार

    ReplyDelete
  6. थामकर वेदना, पीड़ाओं को,
    एक मधुर बंसी तुम बजाना.
    पीड़ा-दुःख से कातर ना होगे
    दृढ-निश्चयी हो आगे बढ़ो मन
    तुच्छ विचारों का अब त्याग करो मन.... और मंजिल को बढ़ो तुम
    .....अनुवाद सफल

    ReplyDelete
  7. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  8. प्रभावशाली प्रेरक रचना कुछ नया सीखने को मिला..

    ReplyDelete
  9. AAPKEE KAVITA KE LIYE AAPKO BADHAAEE .

    ReplyDelete
  10. कर सोच बड़ी, करो सार्थक ये जीवन.
    बहुत उम्दा .... सुंदर बात कही

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छा अनुवाद किया आपने ....
    लागता है आपकी हिंदी और बंगला में भी पूरी पकड़ है ....
    मैंने भी कुछ असमिया से अनुवाद किया है पर इतना अच्छा नहीं कर पति ..अलबत्ता पंजाबी से ज्यादा बेहतर कर लेती हूँ .....

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छा अनुवाद किया आपने ....
    लागता है आपकी हिंदी और बंगला में भी पूरी पकड़ है ....
    मैंने भी कुछ असमिया से अनुवाद किया है पर इतना अच्छा नहीं कर पति ..अलबत्ता पंजाबी से ज्यादा बेहतर कर लेती हूँ .....

    ReplyDelete
  13. परोपकार, सेवा, साधना में
    स्वयं को समाहित रखो मन,
    अनुराग-सिक्त अनाहात को
    रिपु-पाशों से रहित रखो मन.

    प्रेरक विचारों से परिपूर्ण बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  14. आज 21/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. वाह बहुत सुन्दर ऐसे ही लिखते रहो शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  16. Madhuresh ji
    bahut sundar kavita
    mera ek aur blog bhi hain..
    httpp://kisseaurkahaniyonkiduniya.blogspot.com

    ReplyDelete
  17. सुन्दर रचना का सुन्दर अनुवाद....
    आभार

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete