Monday, February 27, 2012

नाव


अच्छा ही है
कि नहीं हूँ उस नाव में
जो डोलती है, डगमगाती है,
और दूर तक
साहिल न दिखने पर
दलकती है, घबराती है.
कम-से-कम
अब इतमिनान तो है
कि इन पहाड़ी कंदराओं में भी
मेरे मन की नाव
विचारों के कई समुद्र
आसानी से पार कर जाती है
सुदृढ़ है, सुगढ़ है,
वीरतापूर्वक
बस बढ़ती ही जाती है.
ना दलकती है, ना घबराती है,
और तूफानों में भी हरदम
मदमस्त मुस्कुराती है,
क्योंकि पता है उसे
कि डटकर सामना करना ही
ज़िन्दगी कही जाती है.

Picture Courtesy: Sheshagiri Rao: Brahmaputra, Guwahati, India

24 comments:

  1. कि डटकर सामना करना ही
    ज़िन्दगी कही जाती है.

    प्रेरणादायी विचार ... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. Beautiful and profound work.

    True, to face everything with courage is the essence of life...:)

    ReplyDelete
  3. अच्छा ही है
    कि नहीं हूँ उस नाव में
    जो डोलती है, डगमगाती है,
    और दूर तक
    साहिल न दिखने पर
    दलकती है, घबराती है.
    ..... पर बिना इसके मंजिल की दृढ़ता , जूझने की क्षमता कहाँ आती है .

    ReplyDelete
  4. नाविक में हिम्मत हो तो वो अपनी नैया को तूफानों के पार लगा ही देता है...

    सुन्दर रचना मधुरेश.

    ReplyDelete
  5. Madhuresh ji
    aapki rachna acchi lagi

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छा लिखा है सर!


    सादर

    ReplyDelete
  7. कल 29/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  8. बेहद खुबसूरत व प्रभावी रचना..

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और सशक्त रचना...

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  11. वैसे तो जीवन में इसी नाव को साधना होता है ... मन को साध लिए तो हर बाधा आसान हो जाती है ... अच्छी रचना है ...

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  13. अच्छा ही है
    कि नहीं हूँ उस नाव में
    जो डोलती है, डगमगाती है,
    ...... एहसासों को बखूबी पिरोया है आपने। बेहतरीन कविता है।

    ReplyDelete
  14. प्रेरणा देती हुई सकारात्मक रचना.

    ReplyDelete
  15. आत्मबल को दर्शाती सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  16. वैचारिक स्वछंदता की पतवार जिसके पास हो....उसे किसी तूफ़ान का डर नहीं ...प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति ....पहली बार आपके ब्लॉग पर आई हूँ...सिलसिला बना रहे !!!

    ReplyDelete
  17. जिन्दगी के यथार्थ को बताती सार्थक अभिवयक्ति....

    ReplyDelete
  18. बिकुल सही कहा आपने.......साहस और आशा ही जीवन है।

    ReplyDelete
  19. बिलकुल सत्य मन के हारे हार है मन के जीते जीत
    सार्थक रचना आभार

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर और प्रभावशाली अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  21. बेहद खुबसूरत व प्रभावी रचना|

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना,
    इंडिया दर्पण की ओर से होली की अग्रिम शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete