Monday, March 5, 2012

सूट नहीं करता


कुछ ख्यालों को पर्दों में ही रखा करो,
सब बेनकाब ही हों, ये सूट नहीं करता.

तमाम बातें यूँ दिल पे न लिया करो,
सब लाजवाब ही हों, ये सूट नहीं करता.

कभी चुपचाप खुद से भी कुछ कहा करो,
सब शोर-ए-आब ही हो, ये सूट नहीं करता.

हर हुस्न है दीद के काबिल यहाँ मगर
सब बेहिजाब ही हों, ये सूट नहीं करता.

हर जाम में होता है इक नशा 'मधुर'
सब में शराब ही हो, ये सूट नहीं करता.

Picture Courtesy: http://url123.info/3174ebe8

16 comments:

  1. वाह ...बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  2. कुछ ख्यालों को पर्दों में रखा करो,
    सब बेनकाब हों, ये सूट नहीं करता... excellent

    ReplyDelete
  3. बहूत हि बढीया ..
    हर पंक्ती लाजवाब है ...
    होली कि शुभकामनाये

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रविष्टि लिंक करने के लिए बहुत आभार,
      होली की रंग बिरंगी शुभकामनाओं सहित,
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  5. सुन्दर प्रस्तुति ||

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक
    dineshkidillagi.blogspot.com
    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मधुशाला को लिंक करने के लिए बहुत आभार,
      होली की रंग-बिरंगी शुभकामनाओं सहित,
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  6. Seriously, mazza aa gaya padh kar....Too good:)

    ReplyDelete
  7. Madhuresh ji
    aapki ghajal bahut acchi lagi.
    Holi ki hardik subhkamnai.

    ReplyDelete
  8. भई वाह, हम दाद न दें सूट नहीं करता.

    ReplyDelete
  9. itni achchi gajal padhe aur tareef na kare
    ye suit nahin karta...bahut sundar

    ReplyDelete
  10. वाह! बहुत खूब :)

    मेरे नए ब्लॉग पर आप का स्वागत है

    स्वास्थ्य के राज़ रसोई में: आंवले की चटनी
    razrsoi.blogspot.com

    ReplyDelete
  11. wow! :) kya mast kaha hai aapne :)

    ReplyDelete
  12. हर हुस्न है दीद के काबिल यहाँ मगर
    सब बेहिजाब ही हों, ये सूट नहीं करता.
    .......इस उत्कृष्ट रचना के लिए ... बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर. सुन्दर भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete