Saturday, November 24, 2012

सागर की कशमकश


नदियों का प्रेम समर्पण का,
उनका तो प्रेम प्रवाह है बस। 
आग़ोश में लेता जाता फिर भी,
सागर की है कुछ कशमकश!

अथाह प्रेम समर्पण का
नदियाँ अपने संग लाती हैं,
पर पत्थर राहों में घिसकर
थोड़ी नमक भी घोल आती हैं।

ये चुटकी भर नमक नहीं
नदियों का मीठापन हरता है,
लेकिन यूँही बूँद-बूँद कर
सागर को खारा करता है।

और जब नदियाँ बादल बनकर
उड़ जाती सागर के ऊपर,
तो फिर बचता सागर में बस
उनका त्यागा नमक चुटकीभर!

सदियों के इस सिलसिले में
सागर खारा होता जाता है,
फिर भी प्रेम कहो कितना जो,
नदियों को फिर भी भाता है!


Inspired by बावली नदी

Dedicated to dear Anu di :) 

Picture Courtesy: http://www.nwfsc.noaa.gov/research/divisions/fed/oceanecology.cfm

22 comments:

  1. और जब नदियाँ बादल बनकर
    उड़ जाती सागर के ऊपर,
    तो फिर बचता सागर में बस
    उनका त्यागा नमक चुटकीभर!

    सूक्ष्म और सटीक दृष्टि से आपने इसे देखा है. सुन्दर काव्य मधुरेश भाई.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर मधुरेश....
    मूल से सूद प्यारा.............

    शुक्रिया
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. सुन्दर
    अभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  4. Both of you and anu di leave me speechless sometimes...

    ReplyDelete
  5. सदियों के इस सिलसिले में
    सागर खारा होता जाता है,
    फिर भी प्रेम कहो कितना जो,
    नदियों को फिर भी भाता है!
    वाह ... बहुत ही बढिया

    ReplyDelete
  6. ये चुटकी भर नमक नहीं
    नदियों का मीठापन हरता है,
    लेकिन यूँही बूँद-बूँद कर
    सागर को खारा करता है।

    बहुत खूबसूरत कविता है भाई!
    लाजवाब !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर लगी पोस्ट।

    ReplyDelete
  8. सुंदर जज़्बात ....!!
    सुंदर रचना ...!!

    ReplyDelete

  9. कल 30/11/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. Dedicated to dear Anu di :)

    उम्मीद है दी को पसंद आई होगी ....!!

    ReplyDelete
  11. नदियों का प्रेम समर्पण ........बहुत सुंदर जज़्बात...

    ReplyDelete
  12. yeh to pura concept hi badal gaya ....:)

    ReplyDelete
  13. गहन अर्थ लिए बहुत ही सुन्दर रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  14. गहराई है आपकी कविता में

    ReplyDelete
  15. क्या कमाल का पकड़ा हैं आपने इस अपार प्रेम को .. और उतनी ही खूबसूरती से काव्य रचना भी की हैं।

    बहुत ही उम्दा। :))

    आपके ब्लॉग पर आकर बहुत अच्छा लगा ..अगर आपको भी अच्छा लगे तो मेरे ब्लॉग से भी जुड़े।

    आभार!!

    ReplyDelete
  16. खुबसुरत एहसास समेटे सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्छा लिखा है..बस एक प्रवाह..बहा जा रहा है कुछ...

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति .आभार

    ReplyDelete
  19. सदियों के इस सिलसिले में
    सागर खारा होता जाता है,
    फिर भी प्रेम कहो कितना जो,
    नदियों को फिर भी भाता है ..

    प्रेम का ऐसा चक्र चलता ही रहता है ... सुन्दर प्रवाहमय रचना ...

    ReplyDelete
  20. सदियों के इस सिलसिले में
    सागर खारा होता जाता है,
    फिर भी प्रेम कहो कितना जो,
    नदियों को फिर भी भाता है!
    प्रिय मधुरेश जी गहन अभिव्यक्ति , जीवन वृत्तांत युक्त सुन्दर सन्देश देती रचना .....गजब के जज्बात ....प्रेम उमड़ता रहना चाहिए
    जय श्री राधे
    भ्रमर 5

    ReplyDelete
  21. आपका यह पोस्ट अच्छा लगा। मेरे नए पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी। धन्यवाद।

    ReplyDelete