Wednesday, June 20, 2012

वनवास ३: तुम तो हो




जब एकांत में प्रशांति न हो,
और चित्त में विश्रांति न हो,
जब सपन-सलोने नयनों में
कौतूहल हो और कान्ति न हो,

जब ठिठके मुझसे मेरी छाया
यूँ जैसे कि पहचानती न हो
जब रूठे मुझसे मेरी तन्हाई,
मैं लाख मनाऊँ, वो मानती न हो,

तुम धीरे से पास बुलाना मुझे,
ख़ुद का एहसास दिलाना मुझे,
ताकि ये लगे कि तुम तो हो,
तुम्हारे न होने की भ्रान्ति न हो.



Picture Courtesy: Santanu Sinha

25 comments:

  1. मन का उद्वेलन प्रकट करती ....बहुत सुंदर कविता ...
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  2. क्योंकि ओ शब्द - तुम आधार हो
    संजीवनी शक्ति हो
    खुद को खुद में पाने का आदि और अंत हो

    ReplyDelete
  3. वाह ... बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  4. उसके न होने की कोई वजह ही नहीं.....
    जब स्थितियां विपरीत हों तो उसका ही आसरा है....

    बहुत सुन्दर मधुरेश.

    ReplyDelete
  5. वाह: भावो की बहुत सुन्दर प्रस्तुति... मधुरेश...बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  6. तुम्हारे न होने की भ्रान्ति न हो.
    वाह!

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर भावो से सजी ये पोस्ट लाजवाब है।

    ReplyDelete
  8. क्या कहने...
    बहुत ही सुन्दर रचना है मधुरेश जी
    बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  9. कल 22/06/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार यशवंत भाई !
      सादर

      Delete
  10. बेहतरीन शाब्दिक संयोजन ..... अति सुंदर

    ReplyDelete
  11. जब उसका अहसास हो तो कैसी भ्रान्ति ..सुन्दर शब्द सृजन..

    ReplyDelete
  12. भ्रांतियां भी कभी कभी शांति दे जाती है
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  13. उसके होने के एहसास में कोई भ्रांति नहीं...बहुत खूबसूरत रचना !!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर भावमयी रचना...

    ReplyDelete
  15. "तुम धीरे से पास बुलाना मुझे,
    ख़ुद का एहसास दिलाना मुझे,
    ताकि ये लगे कि तुम तो हो,
    तुम्हारे न होने की भ्रान्ति न हो."
    ....मनमोहक रचना

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. तुम धीरे से पास बुलाना मुझे,
    ख़ुद का एहसास दिलाना मुझे,
    ताकि ये लगे कि तुम तो हो,
    तुम्हारे न होने की भ्रान्ति न हो.

    सुंदर भावों से सजी आपकी प्रस्तुति काफी अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट अतीत से वर्तमान तक का सफर पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन, बधाई.

    कृपया मेरी नवीनतम पोस्ट पर पधारें , अपनी प्रतिक्रिया दें , आभारी होऊंगा .

    ReplyDelete
  19. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको
    और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/

    ReplyDelete