Monday, May 28, 2012

सहगामिनी


सहगामिनी हो जीवन-पथ की,
सहभागी एक-से स्वप्नों की,
हाँ, उसके सुरमयी स्वप्नों की
संचयिका बनना चाहता हूँ.

वो कहे तो मैं सजदे कर लूँ,
या खुद के घुटनों पे हो लूँ,
मगर जहाँ वो सिर रख सके,
वो कन्धा देना चाहता हूँ.

सिर झुका कर बातें कर लूँ,
नेह उसका पलकों पे धर लूँ,
पर उसे सदा मैं आसमान की
बुलंदियों पर देखना चाहता हूँ.


हाँ, उसके सुरमयी स्वप्नों की
संचयिका बनना चाहता हूँ.


Picture Courtesy: http://www.nairaland.com/497893/kneel-down-feed-husband/3

34 comments:

  1. शुभप्रभात .... !!
    *पर उसे सदा मैं आसमान की
    बुलंदियों पर देखना चाहता हूँ*
    हमेशा ऐसा ही बने रहना .... !!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर सपने ... और सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. बहुत समर्पण भाव से लिखी रचना .
    फोटो में अगर हिन्दुस्तानी झलक होती तो और भी मजा आता .
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. सिर झुका कर बातें कर लूँ,
    उसका नेह पलकों पे धर लूँ,
    पर उसे सदा मैं आसमान की
    बुलंदियों पर देखना चाहता हूँ.
    बहुत सुन्दर भाव... सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छे ख्याल ....

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत भाव की खूबसूरत अभिव्यक्ति !!

    ReplyDelete
  7. कोमल भाव से लिखी बेहतरीन, सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  8. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  9. बहुत ही नेक और ऊँची सोच .....
    खुश्ह हुआ मन पढ़ कर ...!!
    शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्‍तुति

    कल 30/05/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' एक समय जो गुज़र जाने को है ''

    ReplyDelete
    Replies
    1. सदा जी, हलचल में शामिल करने के लिए आभार! :)
      सादर,
      मधुरेश

      Delete
  11. अति सुंदर...और सुंदर तो होना तय था...जब प्रेरणा इतनी ही सुंदर है...

    ReplyDelete
  12. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. तथास्तु, ख्वाहिश पूरी हो

    ReplyDelete
  14. खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....शानदार |

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  16. Wah! This reminds me of a hindi movie, can't recall the name. Beautiful to the core:)

    ReplyDelete
  17. समर्पण के सार्थक भाव ....

    ReplyDelete
  18. bahut sundar...shbdon mein samrthy hai khwab bunane ki..

    ReplyDelete
  19. खूबसूरत भावाभिव्यक्ति....
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  20. मगर जहाँ वो सिर रख सके,
    वो कन्धा देना चाहता हूँ.

    ऐसा ही हो सहचर मेरा । सुंदर भावबीनी कविता ।

    ReplyDelete
  21. हर प्रेमी ह्रदय की यही चाहत..अति सुन्दर..

    ReplyDelete
  22. वाह, बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट "बिहार की स्थापना के 100 वर्ष पर" आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  23. एक बार फिर से सीधे सादे शब्दों में सुन्दर बयान
    बधाई

    ReplyDelete
  24. Mast jhakaas....All the best to u..:P

    ReplyDelete
  25. पर उसे सदा मैं आसमान की
    बुलंदियों पर देखना चाहता हूँ.
    ...एक बहुत ही उत्कृष्ट और rare भावना ...!!!!

    ReplyDelete
  26. भाव मय रचना ...
    उनको बुलंदी पे देखने की चाह ... लाजवाब है ...

    ReplyDelete
  27. कम शब्दों में बहुत कुछ कह गए आप,सार्थक प्रस्तुति :)

    मेरा ब्लॉग आपके इंतजार में,समय मिलें तो,बस एक झलक-
    "मन के कोने से..."
    आभार..|

    ReplyDelete
  28. A heartwarming serenade indeed! The desire to be her roots as your lover's dreams take wings, what could be more beautiful and purer than that :)
    deeply touched :)

    ReplyDelete