Thursday, May 24, 2012

परिपक्वता

The serene calmness and quietness of a candle (diya) gets more and established only with time!


 

तब ज़िद्दी बच्चों-सा
मांगता रहा तुमसे
और ये भी पता न था
कि माँगना क्या है!

अब समझ है इतनी
कि चाहिए क्या मुझे,
और जानता हूँ ये भी
कि माँगना क्या है!

फिर भी नहीं मांगता!
क्यूंकि मन में तुमने
विश्वास जो भर दिया है,
कि भला माँगना क्या है!

शायद यही परिपक्वता है!

===================================


I used to ask for everything
like an unyielding child
without even knowing
what is that I actually need!

With time, we grow and realize
what should we actually ask for.
Now I know what is that
I really really need.

But I won't even ask you
to give me what I want!
For, you've bestowed me such a faith
that I can get it, whatever I want.

Perhaps this is what maturity is!
===============================

Picture Courtesy: Santanu Sinha

19 comments:

  1. फिर भी नहीं मांगता!
    क्यूंकि मन में तुमने
    विश्वास जो भर दिया है,
    कि भला माँगना क्या है!

    शायद यही परिपक्वता है!
    वाह ! हाँ .... आपकी सोच पूरी तरह से परिपक्व हो चुकी है ....
    :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. अरे नहीं विभा मौसी, अभी भी बच्चों-सी ज़िद करते हैं.. इसीलिए ये आत्म-मंथन...खुद को समझाना चाहते हैं कि अब ये ज़िद छोड़ देनी चाहिए :)
      आभार

      Delete
    2. आशीष छोटू .... !!परिपक्वता का अर्थ यह नहीं , कि अपने से बड़ो के सामने बचपना नहीं दिखलाया जाए .... !!

      Delete
  2. मन मे है विश्वास ...पूरा है विश्वास ...
    हम होंगे कामियाब एक दिन ....!!
    अब इस विश्वास के आगे और क्या मांगना है ......?
    सुंदेर प्रस्तुति ....
    शुभकामनायें.....!!!!

    ReplyDelete
  3. कितना भी परिपक्व हो जाये दिमाग.......
    मन कभी मांगना नहीं छोड़ता.....
    भीतर का बच्चा कभी बड़ा नहीं होता...
    और कोई है कहीं...जो अवश्य देता है हमें मांगने पर.......

    सस्नेह

    ReplyDelete
  4. यही परिपक्वता कई अर्थ देती है

    ReplyDelete
  5. जीवन के मायने जब पूरी तरह से समझ में आ जाए तभी पूरी तरह परिपक्वता समझ में आती है!

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन रचना,,,,,

    MY RECENT POST,,,,,काव्यान्जलि,,,,,सुनहरा कल,,,,,

    ReplyDelete
  6. बिन मागें मोती मिले....परिपक्वता आने पर ये बात समझ आजाती है...

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत खूब .. रचना के भाव मन को छूते हुए ..

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर और सटीक विवेचना
    चन्द शब्दों मे मुक़म्मल बयान शायद इसी को कहते हैं

    ReplyDelete
  9. अच्छी रचना .... बधाई ...दोनों के लिए ....!

    ReplyDelete
  10. umr ke sath bhi aati hai aur waqt bhi lata hai......nice post.

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसूरत.....

    ReplyDelete
  12. एक परिपक्व सोच से जन्मी एक परिपक्व कविता ...... बहुत सुन्दर विचार हैं मधुरेश .

    ReplyDelete
  13. हाँ ! यही परिपक्वता है....

    ReplyDelete