Thursday, March 28, 2013

कौड़ियों के दाम भी न बिका


पैसे की तंगी ने
मजबूर किया मुझे
खुद को बेच डालने को।
तो निकल पड़ा मैं भी
इस बाज़ार में
अपना मोल लगाने को।
खुद की खूबियाँ गिनी,
खुद की खामियां गिनी,
भई
नेकी है, ईमान है,
उसूलों वाला इंसान है,
सोचा,
दाम तो  अच्छा ही लगेगा,
मगर बाज़ार की डिमांड
तो कुछ और ही थी,
मक्कारी, जालसाजी, दिखावा
येही गुण बिक रहे थे,
दिन भर कड़ी धूप में
बोली लगाता रहा अपनी,
और शाम को मायूस होकर
घर आ गया मैं,
अफ़सोस,
कि कौड़ियों के दाम भी
न बिक पाया मैं!


Picture Courtesy: http://sangisathi.blogspot.com/2011_11_01_archive.html

30 comments:

  1. ह्रदय खखोलती ....बहुत सुन्दर रचना ....!!!!!!

    ReplyDelete
  2. सच आजकल नेकी और इमान का कोई मोल नहीं है..
    यथार्थ कहती प्रभावशाली रचना...

    ReplyDelete
  3. बहुत गहरे शब्द मधुरेश भाई. समय तो दिखावे का ही है. शायद हमेशा ही रहा है. पर सच तो यही है कि दिखे और बिके जो भी, टिकता तो वही है जो किरदार आपकी कविता में है :) इन पक्तियों को पढ़ कर अचानक से ग़ालिब का शेर याद आ रहा है मुझे -

    सुरमा-ऐ-मुफ्त नज़र हूँ, मिरी कीमत यह है
    की रहे चश्म-ऐ-खरीदार पर एहसान मेरा

    बहुत ही गहरा शेर है यह (शब्दार्थ से अलग). सुन्दर रचना की पुनः बधाई.

    ReplyDelete

  4. आपकी रचना वास्तविक परिस्थिति बयां करती बढ़िया कविता
    latest post हिन्दू आराध्यों की आलोचना
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  5. तुम्हारा मोल बाज़ार क्या जाने मधुरेश.....
    सच्चे जौहरी यूँ बाज़ारों में नहीं बैठते.......

    बेहद सशक्त रचना
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (30-3-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. हीरे का मोल सिर्फ जौहरी ही बता सकते है,, सुंदर रचना,,,,,,

    RECENT POST: होली की हुडदंग ( भाग -२ )

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  9. बहुत ही मार्मिक प्रस्तुतीकरण,आभार.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर....होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।।
    पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

    ReplyDelete
  11. ईमानदारी,सत्य,सौन्दर्य,ईश्वर के प्रति निष्ठा ..... यह न बिकाऊ है,न कोई खरीद सकता है

    ReplyDelete
  12. आज का समय यही है.मक्कारी का ही बोल बाला है..बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  13. सच कहा है ... आज के समय अनुसार बनाना होगा खुद को .. फिर देखना बेचने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी ...

    ReplyDelete
  14. नेकी ईमान का मान कहाँ आज...? कुछ अलग तरह की रचना

    ReplyDelete
  15. साहूकारों की दुनिया में कुछ तो बचा है जो बेमोल होकर भी अनमोल है .

    ReplyDelete
  16. मक्कारी, जालसाजी, दिखावा
    येही गुण बिक रहे थे,
    sahi bat .........bahut gahree soch....

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन और लाजवाब.....हैट्स ऑफ इसके लिए।

    ReplyDelete
  18. अफ़सोस,
    कि कौड़ियों के दाम भी
    न बिक पाया मैं!
    कोई पारखी न था वहाँ इसलिए क्‍या जानता वो नेकी औ' ईमान की कीमत

    बेहद सशक्‍त भाव लिए उत्‍कृष्‍ट रचना

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी रचना. एक सोच ये भी - ईमानदारी की कीमत कौड़ी भी नहीं क्योंकि वह बिकाऊ नहीं. बहुत बढ़िया, बधाई.

    ReplyDelete
  20. न बिकने वाली चीजें भी वक्त की चोट से बाजार में पहुँच जाती हैं ....बेहतरीन !

    ReplyDelete
  21. बढ़िया अभिव्यक्ति ...
    शुभकामनायें इस लेखनी को !

    ReplyDelete
  22. bika isliye nahi tu..kyunki imaan bika nahi karta...jaalsaazi makkari ka kya hai...khareeddar utne hi baithe hain unke jitne ki tann bechti vaishyaon ke...mann kahaan koi kabhi bech khareed paya hai...

    ReplyDelete
  23. इन्सान के गुण तो अनमोल हैं...कभी बिक ही नहीं सकते... बरहाल बहुत अच्छी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. अनमोल की कीमत कौन लगा पाया है
    सशक्त रचना
    हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete