Friday, June 13, 2014

क्षुद्रता


मन मेरा जुगनू की भांति
बुझता औ' जलता रहता है।
इक तुच्छ क्षुद्र सा भाव लिए
चहु ओर भटकता रहता है।

तुम श्रोत हो अविरल रश्मि के,
तुम्हे पाने से क्यों डरता है!
क्यों अपनी ही मर्यादा को
साकार समझता रहता है!

कितना ही तुच्छ हो कोई भी,
इक अहम खटकता रहता है।
बंधकर ख़ुद की सीमाओं में,
ख़ुद से ही लड़ता रहता है।

तुम नेह-प्रेम के सागर हो, 
ये खड़ा किनारे रहता है।
डूबा तो दम भर जाएगा,
ये सोच डुबकी से डरता है

तुम स्वयं सत्य हो, स्वयं चित,
आनंद तुम्ही में रहता है।
फ़िर भी जग की पीड़ाओं को
अविराम ये सहता रहता है।

तुम्हे पाने को, मिल जाने को
ये सदा तरसता रहता है।
औ' बुझते, जलते अंतस की
उत्कंठा प्रज्ज्वल करता है!



Picture Courtesy: http://wolimej.com/wallpapers-beautiful-love-abstract-for-desktop-free/


17 comments:

  1. मन की दुनिया ही कुछ ऐसी है मधुरेश भाई. अपने मनोभावों को सही शब्द दिए हैं आपने.

    ReplyDelete
  2. अति सुन्दर..... मन के प्रवाहमयी भाव

    ReplyDelete
  3. तुम स्वयं सत्य हो, स्वयं चित,
    आनंद तुम्ही में रहता है।
    फ़िर भी जग की पीड़ाओं को
    अविराम ये सहता रहता है।
    .बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  4. कल 15/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भाव.....
    ढेरों दुआएँ मधुरेश !!

    अनु

    ReplyDelete
  6. पठनीय, सुगम और सुन्‍दर कविता।

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन विश्व रक्तदान दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. Beautiful poem. Loved reading it. :)

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत भाव

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर भावों से सजी शानदार पोस्ट |

    ReplyDelete
  11. इतना अच्छा लिखते हैं तो अपने पाठकों से प्रतीक्षा क्यों करवाते हैं ? आपकी सक्रियता सबों को अच्छी लगती है . आप भी जानते होंगे..

    ReplyDelete
  12. प्रवाहमय सुन्दर भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  13. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@दर्द दिलों के
    नयी पोस्ट@बड़ी दूर से आये हैं

    ReplyDelete
  14. सचमुच आप बहुत ही सुन्दर लिखते हैं आपके शब्द मन में कही गहरे असर करते हैं,

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छा लिखा है अपने मधुरेश जी
    आपकी लेखनी में कुछ खास है

    ReplyDelete