Saturday, January 5, 2013

आज़ादी के मायने

Dedicated to 'the braveheart'
********************************
आज़ादी के मायने 

खुद ही सारे जिस्म को 
ज़ंजीरों से बाँध लिया, 
और एक अँधेरी कोठरी में
जिंदा दफ़न कर आई।
सोचा एकांत है वहां,
कोई न पहुँचेगा मुझतक,
और कोई न होगा वहाँ 
मुझे प्रताड़ित करनेवाला,
न किसी अन्याय के विरुद्ध
गुहार लगानी होगी मुझे,
और न चाहिए होगा मुझे 
कोई तीमारदारी करनेवाला।
झाँक के उस कोठरी में
यूँही देखा एक बार मैंने,
एक जिस्म थी खोखली सी,
और मैं आज़ाद, बाहर उसके।
**************************************
Picture Courtesy: Pencil Kings, Art by Aditya Ikranagera 


27 comments:

  1. बहुत अच्छा मधुरेश भाई...दुःख इसी बात की है कि कुछ सय्याद उस खोखली जिस्म को भी तार-तार कर देना चाहते हैं.....लेकिन .. फिर हम आप भी है उसी दुनिया में...जो उस खोखले जिस्म को देखकर ही खुद खोखला महसूस करते हैं...शायद उतने की दर्द के साथ..इसलिए उम्मीद पर जिए जाते है. बहुत मार्मिक भाव हैं आपकी रचना में.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने निहार भाई। हमारा समाज आज़ादी और बंधन के फर्क को नहीं पहचान पा रहा ... सुरक्षित रहने का अर्थ ये बिलकुल ही नहीं कि हम छिपे छिपे घर में रहें और कहें कि हमें क्या खतरा हो सकता है ... मानसिक परिवर्तन अपरिहार्य है इस समाज का.
      सादर
      मधुरेश

      Delete
    2. बिलकुल मधुरेश भाई. घर की दीवार में एक खिड़की खोल दें और उससे झांकती किरणों से जब ज़िन्दगी के उजालों का भान कराया जाय, मुंह पर घूंघट और वक्ष पर ओढ़नी डाल कर शालीनता तय की जाय और १६ साल की उम्र भी मांग भर कर ज़िन्दगी की पूर्णता तय की जाए.इससे दुखद क्या हो सकता है...अपने बाल अनुभव से कह सकता हूँ की गाँव की स्थिथि बहुत दारुण है. और अपने से ऊपर की पीढ़ी से बदलाव होगा नहीं. बदलाव की कमान हमारे युग को लोगो को ही लेनी होगी. वहीँ से तय होगा सच्चा बदलाव समाज का.

      Delete
  2. आकाश को कोई कभी बाँध पाया है ..पर स्थूल को तो दर्द होता ही है..

    ReplyDelete
    Replies
    1. यही दर्द और यही वेदना तो काट खा रही है अमृता दीदी।
      विमर्श के लिए धन्यवाद।

      Delete
  3. आत्म- मंथन : सुन्दर और सार्थक रचना
    नई पोस्ट :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. धन्यवाद आपका। :)
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  5. बहुत मार्मिक भाव ..बहुत गहन आत्म मंथन..शुभकामना मधुरेश..

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आंटी। आपकी मूल्यवान टिप्पणियां बहुत प्रोत्साहित करती हैं।
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  6. गहन भाव. सुंदर रचना. खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपका :)
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  7. सशक्त और प्रभावशाली रचना.....

    ReplyDelete
  8. सच खोखली हंसी हंस रहा हवा में

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मधुशाला पे नियमित आना बहुत प्रोत्साहित करता है। बस यूँही आपसे सीखता रहूँ।
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  9. अत्यंत भावपूर्ण रचना

    आज के परिवेश को

    देखते हुए सार्थक ....

    बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया आपका।

      Delete
  10. वाह....
    बहुत सुन्दर मधुरेश...
    मार्मिक अभिव्यक्ति है...

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  11. Thought provoking! Do we know the meaning of freedom? More so, do we have freedom? OR freedom is the ability to see things on a much higher level. Beautiful poem and it evoked so many emotions.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes Saru, the notion of freedom has got maligned in our society. Btw, I came across a nice and thoughtful article on the aftermath of the Delhi incident. You might like reading it. Here is the link: http://www.nascentemissions.com/2013/01/a-month-down-line.html

      Delete
  12. विचारणीय....मन को उद्वेलित करते भाव

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका मधुशाला पे नियमित आना बहुत प्रोत्साहित करता है। स्नेहकांक्षी हूँ।
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  13. गहन भाव ..........सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया इमरान भाई।
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  14. मन को छूते शब्‍द ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सीमा दीदी। उद्वेलित है मन, और उससे ज्यादा इसलिए कि इन घटनाओं के बावजूद भी वाकयों में कमी नहीं आ रही!

      Delete
  15. जिस्म के क़फ़स से रूह का पंछी आज़ाद!

    --
    थर्टीन रेज़ोल्युशंस!!!

    ReplyDelete