Thursday, April 12, 2012

ओढ़ने की चादर


मैं, साढ़े-पांच का.
और साढ़े-पांच की
मेरी चादर भी.
हर रात बस
एक ही कशमकश
या तू थोड़ी लम्बी होती,
या मैं ही थोड़ा छोटा होता!

Picture Courtesy: http://2.bp.blogspot.com/

23 comments:

  1. हाँ....कब तक कोई पांव ना पसारे..........

    ReplyDelete
  2. हजारों ख्वाईशें ऐसी कि हर ख्वाइश पे दम निकले ....!!
    गहन अभिव्यक्ति ...
    शुभकामनायें .

    ReplyDelete
  3. पाँव मोड़ लेने का एकमात्र विकल्प है...
    शायद कशमकश कम हो!
    सुन्दरता से गहन बात कही गयी है आपकी रचना में!
    बधाई!

    ReplyDelete
  4. दो पंक्तियों में बहुत कुछ कह दिया आपने..

    ReplyDelete
  5. बहुत पुरानी बात हो चली .... उतने ही पाँव फैलाने चाहिए ,जितनी लम्बी चादर हो .... नया ज़माना ,नयी सोच के साथ कहावतें के मायनें भी बदलनी चाहिए .... !!

    ReplyDelete
  6. अनुपम भाव लिए सुंदर रचना...बेहतरीन पोस्ट .

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  7. यह कशमकश ही समाधान दिलायेगा।

    ReplyDelete
  8. बेजोड़ भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
  9. समझौता करते करते थक जाता है इन्सान , न थके इन्सान तो मुक्त कहाँ !

    ReplyDelete
  10. सार्वभौमिक कशमकश

    ReplyDelete
  11. ये चादर लंबी कर लीजिए नहीं तो मुड़ते-मुड़ते एक दिन पैर बगावत कर बैठेंगे..:)
    सून्दर

    ReplyDelete
  12. कविता बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत अंदाज़...कशमकश की ..

    ReplyDelete
  14. कल 17/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल (विभा रानी श्रीवास्तव जी की प्रस्तुति में) पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशवंत जी आपका और विभा मौसी का आभार... अभी परीक्षा में व्यस्त हूँ, इसीलिए ब्लॉग नहीं पढ़ पा रहा...इसके लिए खेद है...
      सादर
      मधुरेश

      Delete
  15. एक रास्ता है ...अपने सोने का पोस्चर बदल लीजिये .....कशमकश तो और भी हैं ज़िन्दगी में झेलने के लिए ....!!!!

    ReplyDelete
  16. इस कशमकश में पाँव ही सिकोड़ने पड़ जाते हैं

    ReplyDelete