Tuesday, September 6, 2011

अग्निपथ से प्रेरित

कर आगे मत कर !
बढ़कर पथ पर पग धर !
तू क्यूँ विवश खड़ा है यूँ
डरकर, थककर, सहमकर?
सृजन सौभाग्य स्वयं कर,
सिर ऊंचा कर, होकर निडर !
बढ़कर पथ पर पग धर !
Inspired by 'Harivansh Rai Bachchan' :)

1 comment:

  1. प्रेरित रचना भी प्रेरक है!

    ReplyDelete